WTO ka full form kya hai? WTO Mukhyalay | WTO in Hindi

भारत हो या अन्य देश उनके विदेश व्यापार की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। किसी देश के आर्थिक विकास में उसके अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार की भूमिका के सम्बन्ध में भिन्न-भिन्न विचार रहते है।

व्यापार को केवल उत्पादक दक्षता प्राप्त करने का यन्त्र नहीं बल्कि विकास का इंजन भी माना गया है। आंतरिक वेपार करना आसान है लेकिन अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार करने मे किसी देश के कानून, नियम, रीतिरिवाज अलग भी हो सकते है।

इसी वजह से इन समस्याओ के हल के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय एक संगठन की स्थपना हुई थी जिसका नाम है WTO। लेकिन दोस्तों आपको WTO ka full form kya hai?, WTO का गठन कब गठन?,WTO का मुख्यालय, WTO कार्य आदि पता है?

यदि नहीं, तो चिंता करने की कोई बात नहीं हम आजके आर्टिकल मे WTO के बारेमे A to Z बताने वाले है। बस आप इस पोस्ट को अंत तक पढे।

WTO ka full form kya hai?

WTO ka full form “World Trade Organisation” होता है। WTO एकमात्र दुनिया का अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो राष्ट्रों के मध्य व्यापार नियमों से संबंधित है।

WTO समझौते इसके मूल तत्त्व हैं जिन पर कई व्यापारिक देशों द्वारा बातचीत एवं हस्ताक्षर किये गए हैं और उन देशों की संसद में जिनकी पुष्टि की गई है। WTO का मुख्यालय जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड मे स्थित है।

WTO की माहिती शॉर्ट मे:

WTO full form World Trade Organisation
गठन1 January, 1995
उदेश्यटैरिफ और व्यापार के लिए सभी बाधाओं को कम करना
सदस्य देश 164 and (23 पर्यवेशक देश)
आधिकारिक भाषयेइंग्लिश, फ्रेंच, स्पैनिश
मुख्यालय जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड
वर्तमान अध्यक्षरॉबर्टों अजेवेड़ो (Roberto Azevedo)
आधिकारिक वेबसाइटwww.wto.org

WTO full form in Hindi

WTO का फूल फॉर्म “विश्व व्यापार संगठन” है। इसे आसान भाषा मे कहे तो विश्व मे वेपार के नियम बनाने और लागू करने वाला संगठन।

WTO के उदेश्य कौनसे है?

  • WTO की वैश्विक प्रणाली बातचीत के माध्यम से व्यापार बाधाओं को कम करती है एवं भेदभाव रहित सिद्धांत के अंतर्गत कार्य करती है।
  • यह संगठन बातचीत के जरिये विभिन्न देश उन नियमों पर बातचीत करते हैं जो सभी को स्वीकार्य हैं।
  • विवाद का समाधान करना है कि क्या देश उन सहमत नियमों पर चल रहे हैं।
  • विश्व व्यापार संगठन आर्थिक विकास एवं रोज़गार को प्रोत्साहित कर सकता है।
  • विश्व व्यापार संगठन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापार करने की लागत में कटौती कर सकता है।

WTO के कार्यों क्या है?

WTO के मुख्य कार्यों निम्नलिखित है जिसे आप पढ़ सकते है:

  • विश्व व्यापार समझौता एवं बहुपक्षीय समझौतों के कार्यान्वयन, प्रशासन एवं परिचालन हेतु सुविधाएँ प्रदान करना।
  • व्यापार एवं प्रशुल्क से सम्बंधित किसी भी भावी मसले पर सदस्यों के बीच विचार-विमर्श हेतु एक मंच के रूप में कार्य करना।
  • विवादों के निपटारे से सम्बंधित नियमों एवं प्रक्रियाओं को प्रशासित करना।
  • व्यापार नीति समीक्षा प्रक्रिया से सम्बंधित नियमों एवं प्रावधानों को लागू करना।
  • वैश्विक आर्थिक नीति निर्माण में अधिक सामंजस्य भाव लाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) एवं विश्व बैंक से सहयोग करना, तथा
  • विश्व संसाधनों का अनुकूलतम प्रयोग करना।

WTO का इतिहास क्या है?

सिल्क रोड की शुरुआत से लेकर प्रशुल्क एवं व्यापार पर सामान्य समझौते (General Agreement on Tariffs and Trade (General Agreement on Tariffs and Trade-GATT) के निर्माण तथा WTO के उद्भव के समय से व्यापार ने आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने और राष्ट्रों के मध्य शांतिपूर्ण संबंधों को बढ़ावा देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

प्रशुल्क एवं व्यापार पर सामान्य समझौता (General Agreement on Tariffs and Trade- GATT) की शुरुआत वर्ष 1944 के ब्रेटन वुड्स सम्मेलन हुई जिसमें द्वितीय विश्व युद्ध के बाद की वित्तीय प्रणाली की नींव रखी गई तथा दो प्रमुख संस्थानों अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund- IMF) एवं विश्व बैंक की स्थापना की गई।

सम्मेलन के प्रतिनिधियों ने एक पूरक संस्थान की स्थापना की सिफारिश की जिसे अंतर्राष्ट्रीय व्यापार संगठन (International Trade Organization- ITO) के रूप में जाना जाता है जिसकी कल्पना उन्होंने वित्तीय प्रणाली के तृतीय स्तर के रूप में की थी।

वर्ष 1947 में जिनेवा में 23 देशों द्वारा हस्ताक्षरित GATT के रूप में एक समझौता 1 जनवरी, 1948 मे लागू किया था।

GATT 1948 से अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को संचालित करने वाला एकमात्र बहुपक्षीय साधन (एक संस्था नहीं) बन गया जब तक कि वर्ष 1995 में विश्व व्यापार संगठन की स्थापना नहीं हुई।

बाद मे GATT 1994 सभी WTO सदस्यों पर बाध्य एक अंतरराष्ट्रीय संधि है। यह केवल माल व्यापार से संबंधित थी।

WTO के मंत्रिस्तरीय सम्मेलन की सूची

तारीख एण्ड वर्षहोस्ट करने वाला देश
9–13 December 1996 सिंगापुर
18–20 May 1998 जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड
30 November – 3 December 1999 सिएटल, अमेरिका
9–14 November 2001 दोहा, क़तर
10–14 September 2003 कान्कुन, मेक्सिको
13–18 December 2005 हांग कांग
30 November – 2 December 2009 जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड
15–17 December 2011 जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड
3–6 December 2013 बाली, इंडोनेशिया
15–18 December 2015 नैरोबी, केन्या
10–13 December 2017 ब्यूनस आयर्स, अर्जेंटीना

WTO के वर्ल्ड वाइड फूल फॉर्म लिस्ट

Warsaw Treaty Organization
Way Too Old
We’re Taking Over
Weapons Training Officer
Windows Technical Operations
Winning the Oil Endgame
World Telecommunications Organization
World Toilet Organisation
World Tourism Organization
World Trade Organization
Wraith: the Oblivion
Write To Operator

अंतिम बात

इस आर्टिकल मे हमने WTO ka full form kya hai?, WTO का गठन?,WTO full form in Hindi, WTO ka mukhyalay?, WTO कार्य, आदि समजा।

यह पोस्ट कैसी लगी और आपको WTO फूल फॉर्म के बारेमे और कुछ पूछना है तो नीचे comment जरूर करे, हम इसका अवश्य उत्तर देंगे। इस पोस्ट को आप facebook, telegram, Whatsapp, instagram पर भी जरूर share करे।

Leave a Comment