SPG ka full form in Hindi| SPG क्या ई?, इतिहास

पूरे भारत की और मूल्यवान लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भारत सेना सदैव तत्पर रहती है। इसी जवानों की वजह से ही भारत के VIP-VVIP लोग सुरक्षित रहते है क्युकी वह भारत की आर्थिक और राजकीय think-tank होते है।

लेकिन आपको पता है की भारत की सबसे अव्वल नंबर की security एजेंसी कौनसी है?, किसे सबसे ज्यादा सिक्युरिटी मिलती है? इनमे कौंनसे दल सामील होते है? आदि प्रश्नों आपके दिमाग मे घूमते रहते होंगे।

तो आपको किसी अन्य पर जगह जाने की जरूरत नहीं है। क्युकी हम आपको भारत के सबसे अहम व्यक्ति और सरकार के नेता “PM मोदीजी” की सिक्युरिटी करने वाले “SPG commandos” के बारे मे जानने वाले है।

इस आर्टिकल मे हम SPG ka full form, SPG क्या है?, SPG कमैन्डो कैसे बने और चयन प्रक्रिया?, भारत की सुरक्षा श्रेणी, SPG कमैन्डो के पास कैसे हथियार होते है आदि जानेंगे।

SPG ka full form

SPG ka Full form “Special Protection Group” होता है। यह एक भारत सरकार की सबसे ताकतवर, तेज और अव्वल नंबर की सुरक्षा दल है।

SPG एजेंसी भारतीय प्रधानमंत्री मोदीजी और तत्काल परिवार के सदस्यों को आधिकारिक निवास पर उनके साथ रहने के लिए सिक्युरिटी देती है। आपको बता दु की SPG ऐक्ट,2019 कानून के जरिए पूर्व PM , राहुल गांधी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी से SPG सुरक्षा हटा दी गई है।

SPG full form in Hindi

SPG का हिन्दी मे फूल फॉर्म “विशेष सुरक्षा दल” है।

SPG क्या है?

यह भारत की प्रमुख सुरक्षा दल है। यह एजेंसी केवल वर्तमान PM और उनके निकट के परिवार के सभ्यो को दी जाती है। वह प्रधानमात्रै के पास 24 घंटे साथ रहते है , इससे अंदाजा निकाला जा सकते है की हमरे पीएम देश के लिए कितने महत्वपूर्ण है।

यह दल जब भी विदेश के खास VVIP भारत की यात्रा पर आते है तो इन पर पूरी जिम्मेदारी रहती है और भारत के पीएम जब भी विदेश यात्रा पर जाते है तब भी यह साथ मे ही रहते है।

वह सुरक्षा, अंगरक्षा, अनुरक्षण की जाँच करने के लिए विशेष और आधुनिक उपकरण और पोशाक दी जाती है । इसका मुख्यालय नई दिल्ली मे है और इनके वर्तमान मे डायरेक्टर “Arun Kumar Sinha” है।

SPG का इतिहास क्या है?

SPG का इतिहास बहोत पुराना नहीं है,यह आजादी के बाद अस्तित्व मे आई हुई है।

SPG history
SPG history

भारत मे 1981 से पहले pm की सिक्युरिटी की जिम्मेदारी विशेष सुरक्षा बल जोकी वह दिल्ली पुलिस के अंतर्गत आता था। बाद मे इसी वर्ष STF(Special Task Fprce) की रचना की गई थी और यह IB(Intelligence Bureau) के नीचे काम करती थी।

जब पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की वर्ष 1984 मे हत्या के बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा पर कई सारे सवाल उठे। इसी चलते एक स्पेशल फोर्स बनाने की आवश्यकता हुई।

कई सारे सुजावो के बाद गृह मंत्रालय द्वारा “बीरबल नाथ समिति” का गठन किया गया था। इस समिति ने बात-बिमर्श करने के बाद वर्ष 1985 में “Special Protection Unit” (SPU) के गठन की सिफारिश की थी ।

इसके बाद के भारत के राष्ट्रपति ने “30 मार्च 1985” मे कैबिनेट सचिवालय के तहत इस यूनिट के लिए 819 पदों का निर्माण किया और Special Protection Unit को Special Protection Group का नाम दिया। इसके अलावा पुलिस महानिरीक्षक के पद को निर्देशक के रूप में पुनः नामित कर दिया गया था।

SPG को कानून के दायरे मे लाने के लिए वर्ष 1988 मे संसद के विशेष सुरक्षा दल अधिनियम, 1988 (Special Protection Group Act) पारित किया गया तथा SPU का नाम बदलकर SPG रख दिया था।

SPG का डायरेक्टर कौन होता है?

इसका का पद तीन साल के निश्चित कार्यकाल के लिए बनाया गया है। यह दल कैबिनेट सचिवालय के अन्तर्गत काम करता है और रक्षा सचिव इसका प्रमुख होता है।

वर्तमान मे SPG के डायरेक्टर “Arun Kumar Sinha” है।

हमने SPG का फूल फॉर्म से डायरेक्टर जनरल तक जाना अब हम इनके पास कैसे हथियार होते है वह जानते है….

SPG कमैन्डो के पास किस तरह के हथियार होते है?

SPG history

एसपीजी सुरक्षा बल के द्वारा ऑटोमेटिक गन FNF-2000 असॉल्ट राइफल से लैस का प्रयोग किया जाता है | इनके पास ग्लोक 17 नाम की एक पिस्टल भी होती है | इनके सभी कमांडों के द्वारा लाइट वेट बुलेटप्रूफ जैकेट का उपयोग किया जाता है | इस बुलेटप्रूफ ग्लोक 17 नाम की एक पिस्टल होती है |

एसपीजी की टीम के पास अत्याधुनिक उपकरण होते हैं। एसपीजी ऐक्ट के मुताबिक सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश एसपीजी की मदद करते हैं। एसपीजी कमांडो के पास आधुनिक रायफल्स, अंधेरे में देख पाने वाले चश्मे, संचार के अत्याधुनिक उपकरण, बुलेटप्रूफ जैकेट, दस्ताने, कोहनी और घुटनों पर लगाने वाले गार्ड्स होते हैं। इसके पास हाइटेक गाड़ियों का दस्ता भी होता है। एसपीजी के पास BMW 7 सीरीज की बख्तरबंद गाड़ियां, रेंज रोवर्स, बीएमडब्ल्यू के एसयूवी, ट्योटा और टाटा की बख्तरबंद गाड़ियां होती हैं।

SPG कमैन्डो अत्याधुनिक और सबसे तेज उपकरण से सज्ज होते है। इनके पास आधुनिक रायफल्स, अंधेरे में देख पाने वाले चश्मे, संचार के अत्याधुनिक उपकरण, बुलेटप्रूफ जैकेट, दस्ताने, राइफल,ब्रीफकेस, कोहनी और घुटनों पर लगाने वाले गार्ड्स सामील होते है।

इनके पास मुख्यत: ऑटोमेटिक गन FNF-2000 असॉल्ट राइफल और ग्लोक 17 नाम की एक पिस्टल होती है।

पीएम की सुरक्षा के लिए BMW 7 सीरीज की बख्तरबंद गाड़ियां, रेंज रोवर्स, बीएमडब्ल्यू के एसयूवी, ट्योटा और टाटा की बख्तरबंद गाड़ियां दी जाती है।

SPG कमैन्डो कैसे बन सकते है?

SPG मे डायरेक्ट भरती नहीं होती । इनमे IPS, CISF, BSF, CRPF,SSB,ITBP के जवान सामील हो सकते है। वह केवल तीन साल के लिए सामील होते है।

SPG कमैन्डो बनने के लिए मुख्य 3 स्टेज मे से गुजरना पड़ता है।

  1. Physical Interview
  2. Psychological process
  3. Physical Test

बाद मे 3 मास की ट्रैनिंग और weekly टेस्ट लिए जाते है।

यह सारे कठिन स्टेज पर करने के बाद आप 3 साल तक SPG मे सामील हो जाएंगेऔर 3 साल बाद वापिस अपनी जगह या जाएंगे लेकिन प्रमोशन तेज मिलेगा।

अंतिम शब्द

आप SPG कमैन्डो बना या ना बने लेकिन यमे अपनी सुरक्षा एजेंसी का मन-सम्मान करना चाहिए , इनकी वजह से ही हमरे सरकार के नेता सुरक्षित रहते है।

इस पोस्ट मे हमने SPG ka full form, SPG full form in Hindi, SPG क्या है?, SPG कमैन्डो कैसे बने और चयन प्रक्रिया?, SPG कमैन्डो के पास कैसे हथियार होते है,SPG इतिहास आदि पढ़।

यह पोस्ट कैसी लगी और आपको SPG फूल फॉर्म के बारेमे पूछना है तो नीचे comment जरूर करे हम अवश्य उत्तर देंगे। इस पोस्ट को आप facebook, telegram, Whatsapp, instagram पर अवश्य share करे।

Leave a Comment