NGO Full form in Hindi : NGO meaning | NGO बनाके समाजसेवा कीजिए

Full-form of NGO

NGO का full form Non-Governmental Organization होता है। इसके फूल फॉर्म से ही कह सकते है की यह सरकार के आधिपत्य से अलग समाजसेवा करता संगठन।

NGO Full form in Hindi

NGO का फूल फॉर्म हिन्दी भाषा मे गैर सरकारी संगठन होता है। 

ngo full form in hindi

हम सबने NGO का नाम सुना ही होगा लेकिन बहोत कम लोगों को NGO कैसे काम करता है, NGO कैसे शुरू करते है, NGO के कितने प्रकार है,एनजीओ को फंड कहा से मिलता है, भारत मे प्रमुख NGOs के नाम, आदि पता होगा।

तो दोस्तों आजके आर्टिकल मे हम NGO के बारेमे a to z समजने वाले है तो आप इस पोस्ट को अंत तक पढे ताकि आपके सारे डाउट हल हो जाए।

NGO Meaning

NGO एक गैर-नफ़ाकारक ग्रुप है जो की किसी भी संगठन और सरकार के आधीन नहीं आता। इसका विषय राजनैतिक, समाज की सेवा, पर्यावरण को बचना, पशु-पक्षी आदि होते है।

NGO central government के कानून के अंतर्गत आता है। NGO को सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, धार्मिक, पर्यावरणीय जैसे आदि सेवा के साथ परिभाषित किया जाता है।इसमे सरकार की भूमिका बहुत कम दिखाई देती है।

NGO meaning

इसलिए हम कह सकते है की NGO का कोई स्वामी या इससे ऊपर कोई नहीं होता, यह स्वयं एक स्वतंत्र संगठन है। NGO को फंडिंग मिलती है उसे इन्वेस्ट किया जाता है या योग्य गैर सरकारी कामों पर खर्च किया जाता है।

NGO को फंडिंग सामान्य तह दान, बड़ी एजेंसी की सदस्यता शुल्क, सरकार द्वारा, आम आदमी, अन्य विविध स्त्रोत और ब्याज जैसे होते है।

Purpose of NGO

एनजीओ का ऊदेश

हम सभी के मन मे यह बात होती है की NGO कितने लोगों द्वारा चलाया जाता है और उनकी भूमिका क्या होती है। इस सभी सवालो का हम उत्तर देंगे।

एनजीओ मे सरकार पूरी रूप से या प्राथमिक मानवीय और सहकारी ऊदेश वाले संगठन और ग्रुप सामेल होता है। आम तोर पर एनजीओ को प्राइवेट एजेंसी माना जाता है जो की निचले लेवल, राज्य तक सीमित, राष्ट्रीय, आंतर राष्ट्रीय स्तर पर सेवा के कार्य करते है।

NGO किसी एक व्यक्ति के द्वारा नहीं चलाया जाता बल्कि 1 से ज्यादा व्यक्ति द्वारा चलाया जाता है। ये सभी का उद्देश समाजसेवा करना ही होता है नहीं की अपने लक्ष्य पूरे करे।

जिस भी व्यक्ति को समाज सेवा या लोगों का भला करना है वह सरकार के कानून अंतर्गत रजिस्टर करवा सकता है या रजिस्टर कीये बगेर कार्य कर सकते है, यदि आप NGO के लिए रजिस्टर करते हो तो आपको सरकार की तरफ से कुछ आर्थिक सहायता की जाती है।

रजिस्टर के लिए केंद्र सरकार के द्वारा Central Socities Act बनाया गया है और राजस्थान में Rajsthan Socities Act बनाया गया है।

आपको रजिस्टर करे बगेर ही समाज के कल्याण की प्रवृति कर सकते है। बस ऊदेश अच्छा होना चाहिए।

NGO ka itihas (History of NGO)

NGO का इतिहास

NGO के इतिहास की शरुआत 18वी सदी के अंत से हुई थी। एक अंदाज के अनुसार वर्ष 1914 (A.D.) के आसपास 1050 जीतने एनजीओ कार्य कर रहे थे।

उस समय ये संगठने महिला के मताधिकार और गुलामी विरोध करना जैसे प्रमुख कार्य करते थे।

Non-Governmental Organization पूरा वाक्य 1945 मे दूसरा विश्व युद्ध(war) खतम होने के बाद जब सयुक्त राष्ट्र संगठन(UN) की स्थापन के समय मे लोकप्रिय बना था।

बीस वी सदी के दौरान वैश्विकरण, उदारीकरण, आर्थिकरण होने के बाद Non-Governmental Organization का ज्यादा विकास हुआ। 17 अप्रैल 2010 को आधिकारिक रूप से 27 फरवरी को Non-Governmental Organization( गैर सरकारी संगठन ) (NGO) दिन घोषित किया गया था।

हमने NGO full form, NGO का उद्देश, NGO का इतिहास सिख अब हम जानते है की NGO कैसे काम करता है।

How does NGO work?

NGO कैसे कार्य करता है?

NGO का meaning और काम करने का तरीके जानने के बाद आपको उसके द्वारा करने वाले कार्य भी जानना जरूरी है।

मुख्यत: कार्य मे जो बेसहाय है या जिसका कोई नहीं होता, ऐसे लोगों और पशु, पक्षी सामील होते है।

NGO HELP

एनजीओ के प्रमुख कार्य नीचे दिए गए है।

  • एनजीओ के प्रमुख कार्य नीचे दिए गए है।
  • बेसहाय, गरीब लोगों को भोजन देना।
  • बूढ़े लोगों की सेवा करना
  • गरीब को आवास देना
  • अनाथ बच्चों को कहना और शिक्षा देना।
  • आदिजाती लोगों की मदद करना
  • स्कूल मे मिड डे फूड देना
  • पर्यावरण की रक्षा करना
  • पशु, पक्षी, पेड़, पौधे की सुरक्षा करना
  • गरीब बच्चों को किताब, यूनिफॉर्म, बेग आदि की सहायता करना।
  • बीमार लोगों की सहायता करना

अब समजमे आया की NGO बहुत सारे विषयों पर काम करता है। आप NGO बनाकर किसी भी ऊपर दिए गए कार्य कर सकते है।

Types of NGOs

NGOs के विविध प्रकार

  1. ENGO – Environmental NGO
    यह NGO विशेष तह पर्यावरण विषय पर कार्य करते है।
    उदाहरण- Greenpeace and world Wildlife Fund
  2. BINGO – Business Friendly International NGO उदाहरण – Red Cross
  3. INGO – International NGO इसे internation NGO का छोटा रूप माना जाता है। उदाहरण- Oxfam
  4. QuaNGO – Quasi-autonomous NGO इस प्रकार मे International Organization For Standardization (Iso) जैसे NGO आते है या उदाहरण कह सकते है।
  5. GoNGO – Government-organized Non-governmental Organization इसमे सरकार द्वारा संचालित एनजीओ आते है। उदाहरण- international Union for Conservation of Nature

NGO प्रकार के अनुसार कार्य करते है।

NGO kaise shuru kare? (How to start NGO?)

NGO कैसे बनाए?

NGO बनाना सरल तो नहीं है लेकिन सभी नियम और कानून को जानने के बाद सरलता से अपना NGO सुरू कर सकते है।

NGO गठन करने के लिए 7 (society registration act) सभ्यों होने चाहिए और आपको भी NGO के सदस्य बनाना पड़ेगा।

NGO बनाने के लिए जब रेजिस्ट्रैशन करवाते हो तब आपको आपके NGO का ऊदेश, कैसे काम करना है आदि सोच लेना जरूरी है।

इसके साथ आप NGO के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष, सलाहकार चयन करने होंगे और अन्य सामान्य लोग मेम्बर बना सकते हो। ये सभी मिलकर NGO का ढांचा बनाते है।

मेरा मानना है की NGO के लिए आप पहेले समाज मे जो भी समस्या होती है उसे समजे और ये समस्या निकाल ने के लिए आप अच्छा विषय चुनके अपना एनजीओ सुरू कर दीजिए।

विषय चयन करने के बाद अपनी एक कार्य सूची तैयार कीजिए। इसे कैसे पूरा करे इस बात पर अपने सदस्यों के साथ चर्चा कीजिए।

पहेले हमने NGO full form जाना, बादमे उसका अर्थ और अब हम जानते है की एनजीओ सुरू करने के लिए कैसे रेजिस्ट्रैशन करे और क्या document चाहिए……

Register process for NGO

NGO की पंजीकरण प्रक्रिया

नीचे दीये गए आप स्टेप फॉलो कारोंगे तो आप 100% NGO बनाने के लिए समस्या नहीं होगी। इसे जरूर अंत तक पढे…

भारत मे NGO बनाने के लिए 3 कानून मोजूद है। आप अपने अनुसार किसी ऐक्ट मे पंजीकरण कराए।

  1. Companies Act,2013(section 8 company under)
  2. Indian Trust Act,1882
  3. Society Registration Act,1860

1.Companies Act

Companies Act मे पंजीकरण कराने के लिए आपको Memorandum And Articles Of Association And Regulation Document को साथ मे रखना होगा।

यह दस्तावेज बनाना चाहते हो तो आपको इसके लिए किसी भी प्रकार के Stamp Paper की आवश्यकता नहीं रहेगी और Document बनाने के लिए आपको कम से कम तीन सभ्यों(members) आवश्यक है।

2.Indian Trust Act,1882

भारत के सभी राज्यों मे यह कानून भिन्न-भिन्न है। जिस भी state मे ट्रस्ट ऐक्ट बनाया नहीं होता उस राज्य मे Trust act,1882 अपने आप लागू हो जाता है।

यह ऐक्ट अंतर्गत NGO के पंजीकरण के लिए Deed document जरूरी है और इससे पहेले आपको Charity Commissioner या Registrar के Office में आवेदन करना जरूरी है, तो इसे ध्यान रखे।

3.Society Registration Act,1860

Society Act में पंजीकरण करने के लिए आपको Memorandum Of Association And Rules And Regulation का Document लगवाना पड़ता है। यह दस्तावेज बनाने के लिए stamp pepar की जरूरत नहीं पड़ती लेकिन आपको minimum सात लोगों की जरूरत पड़ेगी।

भारत सरकार की ngodarpan साइट पे जाके और ज्यादा जान सकते हो।

नाम से ही पता चलता है की आपका NGO society के स्वरूप मे पंजीकृत किया जाएगा। लेकिन कुछ स्टेट मे अलग नाम से भी पंजीकृत किया जाता है।

हमने NGO full form से NGO रेजिस्ट्रैशन करने की प्रक्रिया जानी तो चलिए एक और नया स्टेप जानते है की NGO शुरू करने के लिए कॉन्से डाक्यमेन्ट जरूरी है।

Document required for Registration

पंजीकरण करने के लिए जरूरी दस्तावेज

अपने NGO मे दान लेने के लिए आपको NGO के नाम से एक अलग बैंक मे अकाउंट खुलवाना पड़ेगा। इसके लिए आप पहेले एक बैंक अकाउंट खुलवा दीजिए और बादमे नीचे दी गए दस्तावेज ध्यान से पढे।

document-of-ngo

NGO बनाने के लिए जरूरी दस्तावेज की सूची पढे:

  • Registered Office address Proof need
  • Your residence proof(current)
  • Trust Deed/Memorandum of Association
  • Rules and Regulation/Memorandum
  • Articles of Association Regulation
  • Affidavit from President
  • Id Proof (any of Voter Id/ Aadhar Card)
  • Passport (must required)

How we get funds for NGO?

एनजीओ के लिए धन कहा से लाए?

गैर-नफ़ाकरक संगठनों के रूप में, हम NGO के लिए प्रोजेक्‍ट, ऑपरेशन, वेतन और अन्य जगह से वित्तपोषण के लिए विभिन्न स्रोतों पर रहते है। क्योंकि एक NGO का वार्षिक बजट लाखों (या करोड़ों डॉलर) मे हो सकता है। NGO के अस्तित्व, ऊदेश, और सफलता के लिए पूंजी लेने के लिए प्रयास करने पड़ते है।

अब हम आपको बताते है की अपने NGO को फंड कहा से प्राप्त करे और इसके लिए अपने NGO को किस तरह फैलाए की अधिक से अधिक donation मिले।

  • Organization Program
  • Create NGO Website
  • Contact Private Companies / factory
  • Government Funds
  • Creat youtube videos

1.Organization Program

NGO के लिए दान लेनेका सबसे आसान और पुराना तरीका यह है। आप अपने एनजीओ का प्रोग्राम किसी भी गाव, तालुका या डिस्ट्रिक्ट मे रख सकते हो।

यह प्रोग्राम मे आप अपने NGO के बारेमे अच्छे से बताइए तथा आपका लोगों को कहिए की हमारा ऊदेश समाज का कल्याण करना है नहीं की अपना। जिससे आपके NGO मे अधिक से अधिक सदस्य जुड़े जिससे ज्यादा धन मिलेगा।

आप अपने प्रोग्राम मे कुछ बड़े लोगों को भी invite कर सकते हो जैसे की, समाज का अग्रणी नेता, फौजी, सेलिब्रेटी, स्पोर्ट्स पर्सन, उचे लेवल के अफसर जिससे ज्यादा से ज्यादा दान मिले और आपके एनजीओ तेजी से तरक्की करे।

2.Create NGO Website

अपने NGO के लिए एक बढ़िया वेब साइट बनाइये। इस साइट मे अपने NGO का ध्येय, महत्वाकांक्षा, अपने बारे मे और अपने एनजीओ के बारे मे लिखे, photos और video डालिए जिससे लोगों को पता कगले आपका ऊदेश लोगो की सेवा करना है।

मोदी साहब ने डिजिटल भारत बनाने का सपना दिखाया है तो आप अपनी साइट पे online funds ले सकते है।
डिजिटल पर ज्यादा प्रमोट करने से के NGO की पहचान बढ़ेगी और ज्यादा दान मिलेगा।

3.Contact Private Companies

बहोत बड़ी रकम मात्र बड़ी निजी companies ही दे सकती है, इससे आप का ही भला और उनका भी क्युकी इस दान देने से टैक्स मे राहत मिलती है।
प्राइवेट companies को प्रेरित करके भी आप दान ले सकते हो। इसके लिए आप mail, social media, direct contact कर सकते हो

4.Government Funds

आपने अच्छे से नियम और कानून का पालन कर रहे हो तथा आप Registered NGO चला रहे हो तो आपको सरकारी funds भी मिल सकता है।

4.You tube channel

आप अपनी यू ट्यूब चैनल बनके आम लोगों को अपने ऊदेश, कार्य, आदि के विडिओ बना सकते हो। जिससे आम लोगो जुड़े और ज्यादा फन्डिग मिल सके।

भारत के फेमस NGOs

  • Goonj
  • Give Foundation
  • The Akshaya Patra Foundation (TAPF)
  • Samman foundation
  • Lepra India
  • Nanhi Kali
  • Deepalaya
  • Pratham Education Foundation
  • Helpage India
  1. what is the full form of NGO in English and Hindi?

    NGO full form

    ANS.- NGO Full form
    Non-Governmental Organization
    NGO full form in Hindi – गैर सरकारी संगठन

  2. भारत मे प्रमुक NGO कौनसे है?

    उत्तर – भारत मे बहुत सारे NGO है लेकिन जो लोकप्रिय एनजीओ है उनके नाम यह है।
    1. Lepra India
    2. Nanhi Kali
    3. Deepalaya
    4. Pratham Education Foundation
    5. Helpage India
    6. Give Foundation
    7. The Akshaya patra Foundation (tapf)
    8. Samman foundation

  3. NGO के कितने प्रकार होते है?

    उत्तर – 1) ENGO – Environmental NGO
    2)BINGO – Business Friendly International NGO
    3)INGO – International NGO
    4)QuaNGO – Quasi-autonomous NGO
    5)GoNGO – Government-organized Non-governmental Organization

  4. NGO के कार्य क्षेत्र कौन से है?

    उत्तर – NGO के कार्य क्षेत्र बहोत सारे है, लेकिन प्रमुख क्षेत्र यह है….
    एनजीओ के प्रमुख कार्य नीचे दिए गए है।
    बेसहाय, गरीब लोगों को भोजन देना।
    बूढ़े लोगों की सेवा करना
    गरीब को आवास देना
    अनाथ बच्चों को कहना और शिक्षा देना।
    आदिजाती लोगों की मदद करना
    स्कूल मे मिड दी फूड देना
    गरीब बच्चों को किताब, यूनिफॉर्म, बेग आदि की सहायता करना।

  5. कैसे हम NGO के लिए funds ले सकते है?

    उत्तर – बिन नफाकारक संगठनों के रूप में, हम NGO के लिए प्रोजेक्‍ट, ऑपरेशन, वेतन और अन्य जगह से वित्तपोषण के लिए विभिन्न स्रोतों पर रहते है। यह 5 तरीकों से धन ले सकते हो।
    1. Organization Program
    2. Create NGO Website
    3. Contact Private Companies / factory
    4. Government Funds
    5. Creat youtube videos

NGO के वर्ल्ड वाइड फूल फॉर्म लिस्ट

NGO full form listCategory
Non-Government OrganizationGovernmental
Organización No GubernamentalInternational » Spanish
Nagoya, JapanRegional » Airport Codes
Next Generation OfficeGovernmental » US Government
Next Generation OnlineInternet
Nothing Going OnMiscellaneous » Unknown
No Good OrganizationGroup » Funnies
Next Government OfficialGovernmental » US Government
No Good OrganizationsMiscellaneous » Unclassified
Native Green OrangeGeneral » Food & Nutrition
Not Getting OnInternet » Chat
Not Good ObserverMind » Fact
New Golden OpportunityJobs » Time
Newly grown orangesNew » General
Neisseria GOnorrhoeaeMedical » Physiology

अंतिम शब्द

आपको समाज का कल्याण और मानव सेवा करनी है तो आज ही NGO के लिए रेजिस्ट्रैशन कराए।

इस आर्टिकल मे हमने सिख की NGO full form, कैसे काम करता है,NGO कैसे शुरू करते है, NGO के कितने प्रकार है, NGO का इतिहास NGOके कार्य, एनजीओ को फंड कहा से मिलता है, भारत मे प्रमुख NGOs के नाम।

यह पोस्ट कैसी लगी और आपको NGO के बारेमे पूछना है तो नीचे Comment जरूर करे हम अवश्य उत्तर देंगे। इस पोस्ट को आप facebook, telegram, Whatsapp, instagram पर अवश्य share करे।

Leave a Comment